आइये आपका स्वागत है

मंगलवार, 8 अप्रैल 2014

मेरे प्रथम कहानी संग्रह "परछाइयों के उजाले "पर "बेअदब सांसे "त्रिवेणी संग्रह के रचयिता राहुल वर्मा जी की पहली समीक्षात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है जिसे मैं आप सभी से साझा कर रही हूँ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    आग्रह है---- मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    और एक दिन

    उत्तर देंहटाएं